पाणिनीय व्याकरण की भूमिका : डॉ. वी. कृष्णास्वामी आयंगार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Paniniya Vyakaran Ki Bhumika : by Dr. V. Krishna Swami Aayangar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

पाणिनीय व्याकरण की भूमिका : डॉ. वी. कृष्णास्वामी आयंगार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Paniniya Vyakaran Ki Bhumika : by Dr. V. Krishna Swami Aayangar Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पाणिनीय व्याकरण की भूमिका / Paniniya Vyakaran Ki Bhumika
Author
Category, ,
Language
Pages 188
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भाषा हमारे जीवन में सर्वाधिक महत्त्व रखती है। समस्त लोकव्यवहार भाषा पर आधारित है। अशिक्षित लोग भी अपना काम भाषा के द्वारा ही चलाते है। उनकी भाषा भले ही शिष्टसम्मत न हो व व्याकरण की सूक्ष्म बातों से भले ही अनभिन हो, किन्तु भाषा के बिना उनका व्यवहार नहीं चल सकता दंडी कहते है…….

Pustak Ka Vivaran : Bhasha hamare jeevan mein sarvadhik mahattv rakhati hai. Samast Lokvyavahar bhasha par Aadharit hai. Ashikshit log bhee apana kam bhasha ke dvara hee chalate hai. Unaki bhasha bhale hee shishtasammat na ho va vyakaran kee sookshm baton se bhale hee anabhin ho, kintu bhasha ke bina unaka vyavahar nahin chal sakata dandi kahate hai………….
Description about eBook : Language is the most important thing in our life. All public behavior is based on language. Even illiterate people run their work through language. Even if their language is not courtesy and may be unaware of subtle matters of grammar, but without language their behavior cannot go on. Dandi says ……
“कोई भी जीवन में पीछे जाकर नई शुरुआत नहीं कर सकता, लेकिन कोई भी आज शुरुआत कर एक नए अंत को अंजाम दे सकता है।” ‐ मरिया रोबिंसन
“Nobody can go back and start a new beginning, but anyone can start today and make a new ending.” ‐ Maria Robinson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment