पराये घोंसले में : फ्योदोर दोस्तोयेव्स्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Paraye Ghonsale Mein : by Fyodor Dostoyevski Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameपराये घोंसले में / Paraye Ghonsale Mein
Author
Category, , ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पराये घोंसले में का संछिप्त विवरण : उननीसवीं शताब्दी के ज़ारकालीन रूसी सामाजिक जीवन में व्याप्त अकथ पीड़ाओं, मारक दुखों, निष्छर अन्याओं और बोझिल उदासियों की तथा व्यक्तित्वों पर उनके प्रभावों का फ़्योदोर मिखाइलेविच दोस्तोयेव्स्की ने अपने उपन्यासों में इतना प्रभावी चित्रण प्रस्तुत किया कि आज तक दुखों और सामाजिक विसंगतियों के मनोमस्तिष्क पर पड़ने वाले प्रभावों के चित्रण के मामले में पूरी दुनिया मे उन्हें बेजोड़ माना जाता है…….

Paraye Ghonsale Mein PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Unaneesaveen shatabdi ke zarakaleen Roosi samajik jeevan mein vyapt akath peedaon, Marak dukhon, Nishthur anyaon aur bojhil udasiyon kee tatha vyaktitvon par unake prabhavon ka fyodor mikhailevich dostoyevskee ne apane upanyason mein itana prabhavi chitran prastut kiya ki aaj tak dukhon aur samajik visangatiyon ke manomastishk par padane vale prabhavon ke chitran ke Mamale mein poori duniya me unhen bejod Mana Jata hai………
Short Description of Paraye Ghonsale Mein PDF Book : Fyodor Mikhailevich Dostoyevsky presented such an effective depiction in his novels of the immense sufferings, grief grievances, pitiless hardships and burdensome gloomies prevailing in early 19th century Russian social life, that his miseries and social discrepancies to date have been so effective. Unmatched in the world in terms of depicting effects It is considered …….
“अज्ञानी व्यक्ति वह प्रश्न पूछते हैं जिनका उत्तर समझदार व्यक्तियों द्वारा एक हजार वर्षों पहले दे दिया गया होता है।” ‐ गोएथ
“Ignorant men raise questions that wise men answered a thousand years ago.” ‐ Goethe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment