परबत का प्रेत : सुजाता पदमनाभन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Parbat Ka Pret : by Sujata Padamanabhan Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameपरबत का प्रेत / Parbat Ka Pret
Author
Category, ,
Language
Pages 26
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

परबत का प्रेत का संछिप्त विवरण : जल-धारा पर पहुंचकर रिगजिन ने अपना तौलिया एक खूबानी के पेड़ पर टांग दिया। बसन्त का मौसम था। पेड़ फूलों से लदा हुआ था और एक लालतूति फुई-फुई पेड़ से आ-जा रही थी। रिगजिन ने सोचा, “बाह ! क्या खूबसूरत नजारा है। खूबानी के फूलों के आगे तूती की लाली लितानी चटक लग रही है………

Parbat Ka Pret PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jal-dhara par pahunchakar Rigajin ne apana tauliya ek khoobani ke ped par tang diya. Basant ka Mausam tha. Ped phoolon se lada huya tha aur ek Lalatooti phurr-phurr ped se aa-ja rahi thee. Rigajin ne socha, vah ! kya khoobasoorat Najara hai. khoobanee ke phoolon ke Aage Tooti kee lali litanee chatak lag rahee hai…………
Short Description of Parbat Ka Pret  PDF Book : Upon reaching the water stream, the riggins hung their towel on an apricot tree. Basant was the weather. The tree was full of flowers and a flame was going through a furrower tree. Riggin thought, “Wow! What a beautiful sight Latechi is fluttering in front of flowers of apricot flowers………..
“आप कहीं भी जाएं, दिल से जाएं।” ‐ कंफ्यूशियस
“Wherever you go, go with all your heart.” ‐ Confucius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment