पेरिस का कुबड़ा : विक्टर ह्रूगो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Paris Ka Kubda : by Victor Huego Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

पेरिस का कुबड़ा : विक्टर ह्रूगो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Paris Ka Kubda : by Victor Hugo Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पेरिस का कुबड़ा / Paris Ka Kubda
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 463
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कुछ काल बाद हूगो को उस अपरिचित प्रदेश के मल्लाहों और कृषकों के प्रति बडी सहानुभूति होने लगी। वे उनकी हर तरह से सहायता करने लगे। युवकों को जीवन युद्ध के लिये रुपये-पैसे और रोगियों को दवाएँ देने लगे | वे गृहहीन, आश्रयहीन, अवलम्ब हीन अनाथों के पिता बन गये। उस अवस्था में उन्होंने जो कुछ किया, वह उनके स्वभाव का हिस्सा था……..

Pustak Ka Vivaran : Kuchh kal bad hruego ko us aparichit pradesh ke mallahon aur krshakon ke prati badi sahanubhooti hone lagi. Ve Unaki har tarah se sahayata karane lage. yuvakon ko jeevan yuddh ke liye Rupaye-paise aur Rogiyon ko davayen dene lage . Ve grhaheen, Aashrayaheen, avalamb heen anathon ke pita ban gaye. Us Avastha mein unhonne jo kuchh kiya, vah unake svabhav ka hissa tha……..

Description about eBook : After some time, Hruego began to have great sympathy for the mariners and farmers of that unfamiliar territory. They started helping them in every way. He started giving money and medicines to the youth for the war of life. He became the father of homeless, shelterless, incapacitated orphans. What he did at that stage was part of his nature……….

“कहे और लिखे गए शब्दों में सबसे दुखद हैं – ‘ऐसा हो सकता था’।” जॉन ग्रीनलीफ व्हिटियर
“Of all the words of tongue and pen – the saddest are these -’It might have been’.” John Greenleaf Whittier

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment