पत्थर का सूप : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Patthar Ka Soop : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameपत्थर का सूप / Patthar Ka Soop
Author
Category, ,
Language
Pages 32
Quality Good
Size 1698 KB
Download Status Available

पत्थर का सूप का संछिप्त विवरण : एक नौजवान सड़क पर चल रहा था। वो बस चलता ही जा रहा था। वो पूरी रात चला। फिर वो पूरे दिन चला। अंत में वो थक गया। उसे बहुत भूख लगने लगी। एक छोटी बूढी औरत ने दरवाजा खोला। “मुझ पर रहम करो.” उस नौजवान ने कहा। “मुझे बहुत भूख लगी है। क्या तुम मुझे कुछ खाने को दे सकती हो ? ” मेरे पास तुम्हें देने को कुछ नहीं है……..

Patthar Ka Soop PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Naujavan sadak par chal raha tha. Vo Bas Chalata hee ja raha tha. Vo poori rat chala. Phir vo poore din chala. Ant mein vo thak gaya. Use bahut bhookh lagane lagi. Ek chhoti boodhee aurat ne daravaja khola. Mujh par raham karo. Us Naujavan ne kaha. Mujhe bahut bhookh lagi hai. Kya tum mujhe kuchh khane ko de sakati ho ? Mere pas Tumhen dene ko kuchh nahin hai…………
Short Description of Patthar Ka Soop PDF Book : A young man was walking on the road. He was just walking. He went on all night. Then he walked all day. Finally he got tired. He started feeling very hungry. A small old woman opened the door. “Have pity on me.” The young man said. ”I am very hungry. Can you give me something to eat? “I have nothing to give you………..
“जीवन में दो मूल विकल्प होते हैं: स्थितियों को उसी रूप में स्वीकार करना जैसी वे हैं, या उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करना।” ‐ डेनिस वेटले
“There are two primary choices in life: to accept conditions as they exist, or accept the responsibility for changing them.” ‐ Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment