प्रथम दीक्षा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Pratham Diksha : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameप्रथम दीक्षा / Pratham Diksha
Author
Category, , , ,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : वस्तु में नये गुणों के आधान करने का नाम “संस्कार” है। जैसे दूध से दही व घी का निर्माण होता है संस्कारित होने पर मनुष्य के गुणों मे आमूल परिर्वतन हो जाता है। इन संस्कारों को देने वाले हमारे माता, पिता, वद्ध, गुरु व.समाज होता है जो संस्कारों के माध्यम से हमारे शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक स्तर का आमूल परिर्वतन करते है…….

Pustak Ka Vivaran : Vastu mein naye gunon ke aadhan karne ka nam “Sanskar” hai. Jaise doodh se dahi va ghi ka nirman hota hai sanskarit hone par manushy ke gunon me aamool parirvatan ho jata hai. In Sanskaron ko dene vale hamare Mata, Pita, vaddh, Guru va.samaj hota hai jo sanskaron ke madhyam se hamare sharirik, mansik va Adhyatmik star ka aamool parirvatan karate hai….

Description about eBook : The name of the transfusion of new qualities in an object is “sanskar”. Just as curd and ghee are made from milk, when cultured, there is a radical change in the qualities of a human being. The giver of these sanskars is our mother, father, widow, guru and society, who through the rites bring about a radical change in our physical, mental and spiritual level……

“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment