प्रेम : दादा भगवान परुपित द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem : by Dada Bhagwan Parupit Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameप्रेम / Prem
Author
Category,
Language
Pages 78
Quality Good
Size 541 KB
Download Status Available

प्रेम का संछिप्त विवरण : “व्यापार में धर्म होना चाहिए, धर्म में व्यापार नहीं’, इस सिद्धांत से उन्होंने पूरा जीवन बिताया। जीवन में कभी भी उन्होंने किसी के पास से पैसा नहीं लिया बल्कि अपनी कमाई से भक्तों को यात्रा करवाते थे………

Prem PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Vyapar mein dharm hona chahiye, dharm mein vyapar nahin, is siddhant se unhonne poora jeevan bitaya. Jeevan mein kabhi bhee unhonne kisi ke pas se paisa nahin liya balki apni kamai se bhakton ko yatra karvate the………
Short Description of Prem PDF Book : He lived his whole life by this principle, “Business should have religion, religion should not trade”. He never took money from anyone in his life, but used to make devotees travel with his earnings…….
“महान मानस के लोग विचारों पर बात करते हैं, साधारण मानस के लोग घटनाक्रम की बात करते हैं, और निम्न स्तर के लोग दूसरों के बारे में बात करते हैं।” ‐ एलेनोर रूसवेल्ट
“Great minds discuss ideas, average minds discuss events, small minds discuss people.” ‐ Eleanor Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment