क्वारंटीन : राजिंदर सिंह बेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Quarantine : by Rajinder Singh Bedi Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameक्वारंटीन / Quarantine
Author
Category, , ,
Language
Pages 11
Quality Good
Size 433 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लोग प्लेग से इतने हैरान-परेशान नहीं थे जितने क्वारंटीन से, और यही वजह थी कि स्वास्थ्य विभाग ने शहरियों को चूहों से बचने की सलाह देने के लिए जो आदमी के क़द के बराबर इश्तिहार छपवाकर दरवाज़ों, और सड़क-चोराहों पर लगाया था, उसपर “न चूहा न प्लेग” के नारे को और बढ़ाते हुए “न चूहा न प्लेग”, के साथ “न क्वार॑टीन” भी लिख दिया था………

Pustak Ka Vivaran : Log Plague se itne Hairan-Pareshan nahin the jitane Quarantine se, aur yahi vajah thi ki svasthy vibhag ne shahariyon ko choohon se bachane ki salah dene ke liye jo Aadmi ke qad ke barabar Ishtihar chhapavakar daravazon, aur Sadak-Chaurahon par lagaya tha, uspar “Na chooha na Plague” ke nare ko aur badhate huye “Na Chooha na Plague”, ke sath “na Quarantine” bhi likh diya tha…….

Description about eBook : People were not so shocked by the plague as by the quarantine, and this was the reason why the health department had printed advertisements about the size of a man and put them on doors and street-squares to advise the citizens to avoid rats. While increasing the slogan of “No Rat No Plague”, “No Rat No Plague”, along with “No Quarantine” was also written…….

“मुझे अपने आपको दूसरों की निगाहों से परखने की प्रवृत्ति छोड़ने में लंबा समय लग गया।” ‐ सेली फील्ड
“It took me a long time not to judge myself through someone else’s eyes.” ‐ Sally Field

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment