हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

राम – चर्चा / Ram – Charcha

राम - चर्चा : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Ram - Charcha : by Premchand Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name राम – चर्चा / Ram – Charcha
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 171
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : राजा ने नौजवान की लाश को कंधे पर रखा और अंधे के पास जाकर यह दुःखद समाचार सुनाया। बेचारे दोनों बुड्ढे, तिसपर दोनों आँखों के अंधे, और यही इकलौता बेटा उनकी जिंदगी का सहारा था- इसके मरने का समाचार सुनकर फूट-फूटकर रोने लगे। जब आंसू जरा थमे तो उन्हें राजा पर गुस्सा आया। उनको खूब जी भरकर कोसा और यह शाप देकर…..

Pustak Ka Vivaran : Raja ne Naujavan kee lash ko kandhe par rakha aur andhe ke pas jakar yah duhkhad samachar sunaya. Bechare donon buddhe, tisapar donon aankhon ke andhe, aur yahee ikalauta beta unaki jindagi ka sahara tha-isake marane ka samachaar sunakar phoot-phootakar rone lage. Jab Ansu jara thame to unhen raja par gussa aaya. Unako khoob jee bharakar kosa aur yah shap dekar…………

Description about eBook : The king placed the young man’s body on his shoulder and went to the blind and told this sad news. Poor old men, blinded by both eyes, and this only son was the support of their lives – hearing the news of its death, wept bitterly. When the tears subsided, he got angry at the king. Cursing them a lot and cursing them………..

“परिवर्तन को जो ठुकरा देता है वह क्षय का निर्माता है। केवलमात्र मानव व्यवस्था जो प्रगति से विमुख है वह है कब्रगाह।” ‐ हैरल्ड विल्सन
“He who rejects change is the architect of decay. The only human institution which rejects progress is the cemetery.” ‐ Harold Wilson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment