हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

चर्चा सुहाग की / Charcha Suhag Ki

चर्चा सुहाग की : शंकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Charcha Suhag Ki : by Shankar Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चर्चा सुहाग की / Charcha Suhag Ki
Author
Category, , , ,
Language
Pages 204
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रामेश्वर मजूमदार ने लक्ष्य किया कि बरसात में सारी चीज ही जैसे देर से होती है। कपडे सुखाने में देर लगती है, पानी गरम होने में देर लगती है, नींद से उठने में थोड़ी देर हो जाती है, बाजार से ताजी साग सब्जी आने में देर होती है, टेलीफोन उठाने पर डायल टोन आने में देर लगती है, बाबू लोग ऑफिस पहुंचने में भी देर………

Pustak Ka Vivaran : Rameshvar Majumdar ne Lakshy kiya ki barasat mein sari cheej hi jaise der se hoti hai. Kapade Sukhane mein der lagati hai, Pani Garam hone mein der Lagati hai, Neend se uthane mein thodi der ho jati hai, bazar se Taji sag sabjee Aane mein der hoti hai, Teliphone uthane par dayal ton Aane mein der lagati hai, Babu log Office Pahunchane mein bhi der………

Description about eBook : Rameshwar Majumdar aimed that everything in the rainy season is as late as possible. It takes time to dry clothes, it takes time for water to heat up, it is a little late to get up from sleep, it is late to get fresh greens from the market, it is late for dial tone when picking up the telephone, babu people office Too late to reach ………

“जब तक हम अपने आप से सुलह नहीं कर लेते तब तक हम दुनिया से भी सुलह नहीं कर सकते।” दलाई लामा
“We can never obtain peace in the outer world until we make peace with ourselves.” Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment