ताराबाई : द्विजेन्द्रलाल राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Tarabai : by Dwijendra Lal Ray Hindi PDF Book – Drama (Natak)

ताराबाई : द्विजेन्द्रलाल राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Tarabai : by Dwijendra Lal Ray Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ताराबाई / Tarabai
Author
Category, , , ,
Language
Pages 174
Quality Good
Size 38 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हमारी हिन्दी में अभी तक यही फैसला नहीं हुआ है कि कविता के लिए खड़ी बोली उपयुक्त है या ब्रजभाषा। कोई ब्रजभाषा का पक्ष लेकर खड़ी बोली को थोथी भाषा, रूखी जबान कह कर कर कोसता है और कोई खड़ी बोली का हिमायती बनकर ब्रजभाषा को गँवारू भाषा कहने में जरा नहीं हिचकता। अभी यह प्रश्न अच्छी तरह उठाया ही नहीं गया है कि अन्य सहयोगिनी भाषाओं की तरह हिन्दी……..

Pustak Ka Vivaran : Hamari Hindi Mein Abhi Tak Yahi phaisala nahin huya hai ki kavita ke liye khadi Boli Upayukt hai ya brajabhasha. Koi Brajabhasha ka Paksh lekar khadee boli ko thothi bhasha, Rookhi Jaban kah kar kar kosata hai aur koi khadi boli ka Himayati Banakar Vrajabhasha ko Ganvaru Bhasha kahane mein jara nahin hichakata. Abhi yah Prashn Achchhi Tarah uthaya hee nahin gaya hai ki any Sahayogini bhashaon ki Tarah Hindi……….

Description about eBook : In our Hindi, it has not yet been decided whether Khadi Boli is suitable for poetry or Braj Bhasha. Someone curses the standing dialect in favor of Brajbhasha by calling it a little language, a dry language, and no one hesitates to call Brajbhasha as a rustic language by being an advocate of a standing dialect. Now this question has not been raised well that Hindi like other Sahyogini languages ​​……….

“अगर आप सही राह पर चल रहे हैं, और आप चलते रहने के लिए तत्पर हैं, तो आप अंततः प्रगति करेंगे।” ‐ बराक ओबामा
“If you’re walking down the right path and you’re willing to keep walking, eventually you’ll make progress.” ‐ Barack Obama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment