रस-पंचध्यायी भ्रमर गीत : रामशंकर शुक्ल | Ras-Panchadhyayi Bhramar Geet : by Ramshankar Shukl Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रस-पंचध्यायी भ्रमर गीत / Ras-Panchadhyayi Bhramar Geet
Author
Category,
Language
Pages 342
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

स-पंचध्यायी भ्रमर गीत पुस्तक का कुछ अंश : “नर-नारायण की तुम दोऊ”–तुलसीदास । नारायण रूप से भगवन शान्त रस के अधिष्ठाता या देवता हैं। श्रृंगार रस का स्थायी भाव रति या प्रीति है यह दो प्रकार की है लौकिक और अलोकिक……..

Ras-Panchadhyayi Bhramar Geet PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : “Nar-Narayan ki tum dooo”–Tulsi das. Narayan roop se bhagvan shant ras ke adhishthata ya devata hain. Shringar ras ka sthayi bhav rati ya preeti hai yah do prakar ki hai laukik aur Alokik……..
Short Passage of Ras-Panchadhyayi Bhramar Geet Hindi PDF Book : “Tum Dau of Nar-Narayan” – Tulsidas. The Lord in the form of Narayan is the presiding deity or deity of Shanta Rasa. The permanent sense of Shringar Rasa is Rati or Preeti, it is of two types, lokik and alokik…….
“जब आप स्थितियों को देखने का अपना नजरिया बदल देते हैं, तो वे स्थितियां जिन्हें आप देखते हैं, बदल जाती हैं।” ‐ वायन डायर
“When you change the way you look at things, the things you look at change.” ‐ Wayne Dyer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment