रसायन शाला : पं० श्रीश्यामसुन्दराचार्य वैश्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Rasayan Shala : by Pt. Shri Shyam Sundaracharya Vaishy Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameरसायन शाला / Rasayan Shala
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 600
Quality Good
Size 20.3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इतनी क्रिया फे बाद सर्प के विष और कांजी में घोट कर डमरू- यन्त्र में रखकर उड़ाले, और क्षाराम्ल में स्वेदन करले तो सुप्तोत्थित मनुष्य की तरह पारद अति बुभुक्षित होकर ग्रास ग्रहण के ‘ लिये समय होता है। सर्प का.विष सपेरों से मिल सकता है। वे लोग ऐसी होशियारी से सर्प के गले से विष की थैली को निकाल देते हैं जिससे……

Pustak Ka Vivaran : Itani kriya phe bad sarp ke vish aur kanji mein ghot kar damaroo- yantra mein rakhakar udale, aur ksharaml mein svedan karale to suptotthit manushy ki tarah parad ati bubhukshit hokar gras grahan ke liye samay hota hai. Sarp ka.vish saperon se mil sakata hai. Ve log aise hoshiyari se sarp ke gale se vish ki thaili ko nikal dete hain jisase…….

Description about eBook : After so much action, the snake’s venom and kanji would be drowned by putting it in the drum-machine, and if it was smeared in the alkali, then like a dormant man, Parad would be very well-informed and have time for grasping. The serpent can be met with snake charmers. They remove the bag of venom from the snake’s throat with such intelligence …

“जब पहाड़ों को खिसकाने के लिये आवश्यक तकनीकी कौशल हो तो उस आस्था की आवश्यकता नहीं है जो पहाड़ खिसकाती है।” – इ. होफ़र
“When there is the necessary technical skill to move mountains, there is no need for the faith that moves mountains.” – E. Hoffer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment