रोगी परीक्षा विधि : प्रियव्रत शर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rogi Pariksha Vidhi : by Priyavrat Sharma Hindi PDF Book

रोगी परीक्षा विधि : प्रियव्रत शर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rogi Pariksha Vidhi : by Priyavrat Sharma Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रोगी परीक्षा विधि / Rogi Pariksha Vidhi
Author
Category, ,
Pages 450
Quality Good
Size 16.45 MB
Download Status Available

रोगी परीक्षा विधि का संछिप्त विवरण : प्रमाणे के दवारा विषय का निर्णयात्मक, निसंशय जान प्राप्त करना परीक्षा कहलाता है। किसी टूटे वृक्ष को देखने पर जब यह संशय हो जाता है कि यह स्त्राणु हैंया पुरुष ? तो निकट जाकर देखने पर प्रत्यक्ष के दबारा बह संशय निवृत्त हो जाता है और टुटा वृक्ष है, यह निश्चय होता है। इसे परीक्षा कहते हैं। जिस किसी विषय में संशयात्मक प्रतीति होने पर परीक्षा का अश्रिय लिया जाता है। और उसके द्वारा विषय का अध्यवसायात्मक जान प्राप्त किया जाता है……

Rogi Pariksha Vidhi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pramane ke dvara vishay ka nirnayatmak, nisanshay gyan prapt karana pariksha kahalata hai. Kisi toote vrksh ko dekhane par jab yah sanshay ho jata hai ki yah stranu hain ya purush ? to nikat jakar dekhane par pratyaksh ke dvara vah sanshay nivrtt ho jata hai aur tuta vrksh hai, yah nishchay hota hai. Ise pariksha kahate hain. Jis kisi vishay mein sanshayatmak pratiti hone par pariksha ka ashriy liya jata hai. Aur usake dvara vishay ka adhyavasayatmak gyan prapt kiya jata hai…………
Short Description of Rogi Pariksha Vidhi PDF Book : According to the decision of the subject, acquiring knowledge of the subject is called examination. When looking at a broken tree when it is suspected that it is a stomach or a man? If you go near and see through direct, he will retire the doubt and it is a broken tree, it is decided. This is called examination. If any subject is suspected of being questionable, then the examination is taken away. And the chauvinistic knowledge of the subject is obtained by him………..
“हममें से जीवन किसी के लिए भी सरल नहीं है। लेकिन इससे क्या? हम में अडिगता होनी चाहिए तथा इससे भी अधिक अपने में विश्वास होना चाहिए। हमें यह विश्वास होना चाहिए कि हम सभी में कुछ न कुछ विशेषता है तथा इसे अवश्य ही प्राप्त किया जाना चाहिए।” ‐ मैरी क्यूरी
“Life is not easy for any of us. But what of that? We must have perseverance and above all confidence in ourselves. We must believe that we are gifted for something and that this thing must be attained.” ‐ Marie Curie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment