साहित्य एवं कला में दशावतार : सतेन्द्र सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sahitya Evm Kala Me Dashavtar : by Satendra Singh Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

साहित्य एवं कला में दशावतार : सतेन्द्र सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Sahitya Evm Kala Me Dashavtar : by Satendra Singh Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name साहित्य एवं कला में दशावतार / Sahitya Evm Kala Me Dashavtar
Author
Category, ,
Language
Pages 218
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

साहित्य एवं कला में दशावतार पुस्तक का कुछ अंश : अवतारवाद भारतीय संस्कृति में अनेक द्रष्टियो में से बहुत महत्त्वपूर्ण माना जाता है | “एक सद विप्रा बहुधा वदन्ति” में पूर्ण विश्वास रखने वाली वैदिक-पौराणिक मनीषा ने ऋत से लेकर लोकजीवन तक सम्पूर्ण व्यवस्था को जिसे गीता में मोटे तौर पर “धर्म” कहा गया है को सुचारू रूप से संचालित एवं व्यवस्थित करने के लिए तथा लोक कल्याण के लिए परमेश्वर के द्वारा समय-समय पर अवतार लेने का दर्शन प्रस्तुत……….

Sahitya Evm Kala Me Dashavtar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Avatarvad bharatiy sanskrti mein anek drashtiyo mein se bahut mahattvapurn mana jata hai. “Ek sad vipra bahudha vadanti” mein purn vishvas rakhne vali vaidik-pauranik manisha ne rt se lekar lokjivan tak sampurn vyavastha ko jise gita mein mote taur par “dharm” kaha gaya hai ko sucharu rup se sanchalit evan vyavasthit karne ke lie tatha lok kalyan ke lie parameshvar ke dwara samay-samay par avatar lene ka darshan prastut kiya hai…………
Short Passage of Sahitya Evm Kala Me Dashavtar Hindi PDF Book : Avatarsm is considered to be of great importance in Indian culture. Vedic-mythology Manisha, who has full faith in “One Sadia Vyapra Bahadha Vedanti”, has been able to smoothly organize and organize the whole system from the ritual to the whole of the world, which is broadly referred to as “Dharma” in the Gita and for people’s welfare For God has presented the philosophy of taking an incarnation from time to time………
“टीवी वास्तविकता से परे है। वास्तविक जीवन में लोगों को फुरसत छोड़ कर नौकरी और कारोबार करना होता है।” बिल गेट्स
“Television is not real life. In real life people have to leave the coffee shop and go to jobs.” Bill Gates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment