समय का स्वर : आशापूर्णा देवी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Samay Ka Swar : by Ashapoorna Devi Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसमय का स्वर / Samay Ka Swar
Author
Category,
Language
Pages 96
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सोता हुआ आदमी भी जाग उठा था | जग कर शरीर के चारो ओर चद्दर, कम्बल कपड़ा अछि तरफ से ढक कर लेत रहा था | अपने आस पास लेते प्रियजनों के गले से चिपट कर या गोद के पास लेते शिशु को छाती से चिपका कर लेटने पर भी दर कर सिहर रहे थे लोग | यह रात शायद ही ख़त्म हो | यह वर्षा तो पृथ्वी को खींच कर पंहुचा देगी अंतिम दिन तक……

Pustak Ka Vivaran : Sota hua admi bhi jag utha tha. Jag kar sharir ke charo or chaddar, kambal kapda achhi taraph se dhak kar let raha tha. Apne as pas lete priyajanon ke gale se chipat kar ya god ke pas lete shishu ko chhaati se chipka kar letane par bhi dar kar sihar rahe the log. Yah rat shayad hi khatm ho. Yah varsha to prthvi ko khinch kar panhucha degi antim din tak………..………

Description about eBook : The sleeping man was also awake Jagad around the body was covering the sheet and blanket from the right side. People sticking around the neck of the loved ones near them or taking the baby near the lap, they were able to cling to the chest and lie down. This night is rarely finished. This rain will drag the earth to the last day……….

“बच्चों को सीख देने का जो श्रेष्ठ तरीका मुझे पता चला है वह यह है कि बच्चों की चाह का पता लगाया जाए और फिर उन्हें वही करने की सलाह दी जाए” ‐ हैरी ट्रूमेन
“I have found the best way to give advice to your children is to find what they want and then advise them to do it.” ‐ Harry Truman

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment