समय से पहले : श्री हर्ष द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Samay Se Pahle : by Shri Harsh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameसमय से पहले / Samay Se Pahle
Author
Category, , , ,
Language
Pages 76
Quality Good
Size 680
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सुबह की धूप तीखे तेजों की तरह चुभती है सारे शरीर में ताप के दबाव से चिटके शीशे की तरह अपने भीतर चिटकना महसुस करता हैं और बायें हाथ से रीढ़ को हड्ढी टथोलता हूँ मुझे लगता है वह टेढ़ी हो गयी है ! सूरज जब भी तेज तपता है कमरों की घुटन सड़क पर पसरे कोलतार की तरह पिघल कर बहने लगती है। बीमार लोग अस्पतालों के बिस्तर गन्दे करते हैं…….

Pustak Ka Vivaran : Subah kee dhoop teekhe tejon ki tarah chubhati hai sare shareer mein tap ke dabav se chitake sheeshe kee tarah apane bheetar chitakana mahasus karata hain aur bayen hath se reedh ko haddhi tatholata hoon mujhe lagata hai vah tedhi ho gayi hai ! Sooraj jab bhee tej tapata hai kamaron kee ghutan sadak par pasare kolatar ki tarah pighal kar bahane lagati hai. Beemar log aspatalon ke bistar gande karate hain…….

Description about eBook : The morning sun pierces like a sharp light, with the pressure of the heat in the whole body, I feel it crackling inside myself like a glass and with my left hand I trample the spine with the left hand, I feel it has become crooked! Whenever the sun gets hot, the suffocation of the rooms starts melting like bitumen spread on the road. Sick people make hospital beds dirty….

“रणनीति कितनी भी सुंदर क्यों न हो, आपको कभी कभी परिणामों पर भी विचार करना चाहिए।” ‐ सर विंसटन चर्चिल
“However beautiful the strategy, you should occasionally look at the results.” ‐ Sir Winston Churchill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment