मछलियां ठहरे तालाब की : श्री हर्ष द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Machhliya Thahare Talab Ki : by Shri Harsh Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameमछलियां ठहरे तालाब की / Machhliya Thahare Talab Ki
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 72
Quality Good
Size 447 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आज के जटिल यथार्थ को विवेक के साथ कविता में व्यक्त करना एक कर्तव्यनिष्ठ महत्वपूर्ण कार्य है। हमारे दैनिक जीवन को राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक अवधारणा जिस रूप में प्रभावित करती है, उन्हें कलात्मकता के साथ कविता में प्रस्तुत करना कवि कर्म का मुख्य अंग है। सामाजिक जीवन जी सामंती…………

Pustak Ka Vivaran : Aaj ke Jatil Yatharth ko Vivek ke sath Kavita mein Vyakt karna ek Kartavyanishth Mahatvapurn kary hai. Hamare Dainik Jeevan ko Rajnaitik, Aarthik, samajik evan Sanskrtik Avadharna jis roop mein prabhavit karti hai, unhen kalatmakata ke sath kavita mein prastut karna kavi karm ka mukhy ang hai. Samajik jeevan ji samanti……

Description about eBook : It is a dutifully important task to express today’s complex reality in poetry with discretion. The way in which political, economic, social and cultural concepts affect our daily life, it is the main part of poetic work to present them in poetry with artistry. Social Life Feudal…………

“आप अपने बच्चों के लिए क्या करते हैं वह नहीं, बल्कि आपने जो उन्हें खुद से करना सिखाया है, वह उन्हें सफल इंसान बनाएगा।” ‐ एन लैंडर्स
“It is not what you do for your children, but what you have taught them to do for themselves, that will make them successful human beings.” ‐ Ann Landers

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment