समकित रतन सार संग्रह : रत्नलाल महता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Samkit Ratan Saar Sangrah : by Ratanlal Mahta Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

समकित रतन सार संग्रह : रत्नलाल महता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Samkit Ratan Saar Sangrah : by Ratanlal Mahta Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समकित रतन सार संग्रह / Samkit Ratan Saar Sangrah
Author
Category, ,
Language
Pages 270
Quality Good
Size 5.5 MB
Download Status Available

समकित रतन सार संग्रह पुस्तक का कुछ अंशजैन समाज में पच्चीस बाल का ज्ञान रटाने का बहुत प्रचार है और ज्ञानी पुरुषों की यह संपत्ति है कि आत्मोन्नति के लिए जिस वस्तु को प्राप्ति करना उसका पाहिले ज्ञान हाँसिल करना चाहिए केवल रटने से क्या लाभ ! इस बात को समझ कर फिर प्राप्त करने के लिए यत्न करना चाहिए इसी को ज्ञान और क्रिया प्राप्त करना कहते है……..

Samkit Ratan Saar Sangrah PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jain samaj mein pachchis baal ka gyan ratane ka bahut prachar hai aur gyani purushon ki yah sampatti hai ki aatmonnati ke lie jis vastu ko prapti karna uska pahile gyan hansil karna chahie keval ratne se kya labh ! is baat ko samajh kar phir prapt karne ke lie yatn karna chahie isi ko gyan aur kriya prapt karna kahte hai…………
Short Passage of Samkit Ratan Saar Sangrah Hindi PDF Book : There is a lot of publicity for Jain society’s knowledge of twenty-five children, and it is the property of knowledgeable men that for the sake of self-realization, the knowledge gained by the person who has attained the knowledge of the object should be able to achieve only what is the benefit of crying? Knowing this thing and trying to achieve it again, it is called taking the knowledge and action………………
“वह व्यक्ति समर्थ है जो यह मानता है कि वह समर्थ है।” ‐ बुद्ध
“He is able who thinks he is able.” ‐ Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment