श्रीमद आचार्य भीषणजी के विचार-रत्न : श्रीचन्द्र रामपुरिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Shrimad Acharya Bhishanji Ke Vichar Ratan : By Shrichandra Rampuriya Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

श्रीमद आचार्य भीषणजी के विचार-रत्न : श्रीचन्द्र रामपुरिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Shrimad Acharya Bhishanji Ke Vichar Ratan : By Shrichandra Rampuriya Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्रीमद आचार्य भीषणजी के विचार-रत्न / Shrimad Acharya Bhishanji Ke Vichar Ratan
Author
Category
Language
Pages 376
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

श्रीमद आचार्य भीषणजी के विचार-रत्न पुस्तक का कुछ अंश : यह पुस्तक कोई मेरो मोलिख रचना नहीं है, परन्तु मारवाड़ी भाषा में लिखी हुई स्वामीजी की रचनाओं से और उनके आधार पर हिंदी भाषा में तैयार किया हुआ संग्रह है | इस पुस्तक के तैयार करने में अनुकम्पा, दान, जिन आज्ञा, समकित, श्रद्धा आचार, बारह व्रत आदि विषयों की स्वामीजी की रचनाओं का उपयोग किया गया है…….

Shrimad Acharya Bhishanji Ke Vichar Ratan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Yah pustak koi mero molikh rachna nahin hai, parantu marvadi bhasha mein likhi hui svamiji ki rachnaon se aur unke aadhar par hindi bhasha mein taiyar kiya hua sangrah hai. Is pustak ke taiyar karne mein anukampa, daan, jin aagya, samakit, shraddha aachar, barah vrat aadi vishayon kee swamiji ki rachanaon ka upayog kiya gaya hai…………
Short Passage of Shrimad Acharya Bhishanji Ke Vichar Ratan Hindi PDF Book : This book is not a Mera Mohilikh composition, but there is a collection prepared by Swamiji’s writings in Marwari language and in Hindi language based on them. The compositions of Swamiji have been used in the preparation of this book, compassion, charity, orders, equations, reverence conduct, twelve vowels etc……………
“यदि कोई व्यक्ति अपने धन को ज्ञान अर्जित करने में खर्च करता है तो उससे उस ज्ञान को कोई नहीं छीन सकता है।ज्ञान के लिए किए गए निवेश से हमेशा अच्छा प्रतिफल प्राप्त होता है।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“If a man empties his purse into his head, no man can take it away from him. An investment in knowledge always pays the best interest.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment