संस्कृत काव्यों में चित्रकूट : सरोजबाला गुप्ता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Sanskrit Kavyon Mein Chitrakut : by Sarojbala Gupta Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

संस्कृत काव्यों में चित्रकूट : सरोजबाला गुप्ता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Sanskrit Kavyon Mein Chitrakut : by Sarojbala Gupta Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संस्कृत काव्यों में चित्रकूट / Sanskrit Kavyon Mein Chitrakut
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 263
Quality Good
Size 43 MB
Download Status Available

संस्कृत काव्यों में चित्रकूट का संछिप्त विवरण : संस्कृत का पटल अतिविस्तृत है | इसका प्रमुख प्रयोजन मानव जीवन को सफल और समुन्नति बनाना है | संस्कृत के दो रूप हैं, एक आध्यात्मिक दूसरा भौतिक | तीर्थों में संस्कृत का आध्यात्मिक रूप प्रस्फुटित हुआ है | इससे मानव के अन्त:करण और आत्मा के संस्कार, परिष्कार, और सुधार की आशा की जाती है ….

Sanskrit Kavyon Mein Chitrakut PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sanskrt ka patal Ativistrt hai. Isaka Pramukh prayojan Manav Jeevan ko Safal aur Samunnati banana hai. Sanskrt ke do Rup hain, Ek Adhyatmik dusara bhautik. Teerthon mein Sanskrt ka Adhyatmik Roop Prasphutit hua hai. Isase Manav ke Ant:karan aur Atma ke Sanskaar, Parishkaar, aur Sudhaar kI Asha kee JatI hai………….
Short Description of Sanskrit Kavyon Mein Chitrakut PDF Book : Sanskrit’s panels are overwhelming. Its main purpose is to make human life successful and prosperous. There are two forms of Sanskrit, a spiritual second physical. In the pilgrimages, the spiritual form of Sanskrit has erupted. This is expected to improve the soul, soul, and improvement of the heart and soul of the human……………
“आपका कोई भी काम महत्त्वहीन हो सकता है, किंतु महत्त्वपूर्ण तो यह है कि आप कुछ करें।” – महात्मा गांधी
“Almost everything you do will seem insignificant, but it is important that you do it.” -Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment