संविधान सभा मे हरयाणा : जगत सिंह हुड्डा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sanvidhan Sabha Me Haryana : by Jagat Singh Hudda Hindi PDF Book

संविधान सभा मे हरयाणा : जगत सिंह हुड्डा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sanvidhan Sabha Me Haryana : by Jagat Singh Hudda Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संविधान सभा मे हरयाणा / Sanvidhan Sabha Me Haryana
Author
Category,
Pages 251
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

संविधान सभा मे हरयाणा का संछिप्त विवरण : ब्रिटिश शासन से त्रस्त भारत उप महाद्वीप को एक दिन उबाल पर पहुँचना ही था, वह पहुंचा। कोई जीती जागती कौम अथवा कौमो का समूह सदा के लिए गुलामी को गले मे दाल कर नहीं चल सकती। गुलामी से मुक्ति की चाह मनुष्य व मनुष्य समाज का स्वाभाविक गुण है। वह बराबरी के धरातल पर खड़ा रहकर जीना चाहता है…….

Sanvidhan Sabha Me Haryana PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : British shaasan se trast bhaarat up mahaadveep ko ek din ubaal par pahunchana hee tha, vah pahuncha. koee jeetee jaagatee kaum athava kaumo ka samooh sada ke lie gulaamee ko gale me daal kar nahin chal sakatee. gulaamee se mukti kee chaah manushy va manushy samaaj ka svaabhaavik gun hai. vah baraabaree ke dharaatal par khada rahakar jeena chaahata hai………….
Short Description of Sanvidhan Sabha Me Haryana PDF Book : The Indian sub-continent suffering from British rule had to reach boil one day, it reached. A living Awakening or a group of coma can not be slaughtered for slavery forever. The desire for freedom from slavery is the natural quality of man and man society. He wants to live on the surface of the equator…………..
“यदि आपको पहली बार में सफलता नहीं मिलती है, तो फिर से कड़ी मेहनत करें।” ‐ विलियम फैदर
“If at first you don’t succeed, try hard work.” ‐ William Feather

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment