शिक्षण में मेरे प्रयोग : योगेन्द्र कुमार रावल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Shikshan Mein Mere Prayog : by Yogendra Kumar Rawal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameशिक्षण में मेरे प्रयोग / Shikshan Mein Mere Prayog
Author
Category,
Pages 112
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

शिक्षण में मेरे प्रयोग का संछिप्त विवरण : ऐसी बात नहीं कि इन प्रश्नों ने मुझे बकारा और ललकारा नहीं तोड़ा और मरोडा नहीं रोका और टोका नहीं या फिर मार्ग में अवरोधक लगाये नहीं-ऐसी बात नहीं है। इन प्रश्नों ने यह सब कुछ किया और यहाँ तक किया कि कई बार मुझे ऐसा लगा मानो ‘मैं’ जिन्दा ही नहीं हूँ, मर चुका किन्तु फिर एक बार के लिए मार्च 1993 में मेरी ……

Shikshan Mein Mere Prayog PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aisi bat Nahin ki in Prashnon ne Mujhe bakara aur Lalkara nahin Toda aur Maroda Nahin Roka aur toka nahin ya phir marg mein Avrodhak lagaye nahin-aise baat nahin hai. In prashnon ne yah sab kuchh kiya aur yahan tak kiya ki kai bar mujhe aisa laga mano main jinda hi nahin hoon, mar chuka kintu phir ek bar ke lie march 1993 mein meri……
Short Description of Shikshan Mein Mere Prayog PDF Book : It is not that these questions did not break me and defied me and did not stop me, and did not stop or put blockers on the way – this is not the case. These questions have done all this and even done that many times I felt as if I am not alive, but dead once again in March 1993 ……
“’आंख के बदले आंख’ के प्राचीन सिद्धान्त से तो एक दिन सभी अंधे हो जाएंगे।” ‐ मार्टिन लुथर किंग, जूनियर
“The old law about ‘an eye for an eye’ leaves everybody blind.” ‐ Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment