स्पन्दन : श्री ओंकार शरद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Spandan : by Shri Onkar Sharad Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameस्पन्दन / Spandan
Author
Category, ,
Language
Pages 192
Quality Good
Size 17.87 MB
Download Status Available

स्पन्दन पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : प्रतिदिन ही तो, शाम को सात बजे की पांच सात मिनट के भीतर ही वह परिचित की बग्घी आकर इस मकान के सामने रूकती है | वे वृद सज्जन उस पर से उतरते हैं -गंभीर मुद्रा बनाये हुए मानो जीवन का सारा का सारा बोझ अब तक उनके मस्तक पर धरा है | कुरता और पायजामा पहने बे अले से तो मालूम होते हैं; पर उनके सिर के बाल कुछ तितर बितर रहते है…….

Spandan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pratidin hi to, sham ko sat baje ki panch sat minat ke bheetar hi vah parichit ki bagghi Aakar is makan ke samane rookati hai. Ve vrddh sajjan us par se utarate hain -Gambhir mudra banaye huye mano jeevan ka sara ka sara bojh ab tak unake mastak par dhara hai. Kurta aur payajama pahane ve bhale se to malum hote hain; par unake sir ke bal kuchh titar bitar rahate hai………..

Short Description of Spandan Hindi PDF Book : Every day, within five to seven p.m. in the evening, the familiar buggy comes and stops in front of this house. The aged gentlemen descend on him – making a grave pose as if all the burden of life is still on their heads. They even know if they wear kurtas and pajamas; But the hair of their heads is scattered some………………

 

“यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।” – जोसेफ फेर्रेल
“If you go in for argument, take care of your temper. Your logic, if you have any, will take care of itself.” -Joseph Farrell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment