सृष्टिवाद और ईश्वर : श्री रतन मुनि जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Srashtivad Or Ishwar : by Shri Ratan Muni Ji Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

सृष्टिवाद और ईश्वर : श्री रतन मुनि जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Srashtivad Or Ishwar : by Shri Ratan Muni Ji Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सृष्टिवाद और ईश्वर / Srashtivad Or Ishwar
Author
Category, ,
Language
Pages 543
Quality Good
Size 7.4 MB
Download Status Available

सृष्टिवाद और ईश्वर पुस्तक का कुछ अंश : मनुष्य जब अपनी नित्य क्रियाओ से सिर ऊपर को उठा करके दिशाओं की और द्रश्तिपात करता है, तब वह एक प्रकार के आश्चर्य का अनुभव करता है | इतने बड़े विश्व को किसने और किस लिये बनाया है | उस विश्व के छोटे अंश रूप पृथ्वी का क्या स्थान है | पृथ्वी के ऊपर गतिमान मनुष्य कहाँ से आया है…….

Srashtivad Or Ishwar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Manushy jab apni nity kriyao se sir upar ko utha karke dishaon ki aur drashtipat karta hai, tab vah ek prakar ke aashchary ka anubhav karta hai. Itne bade vishv ko kisne aur kis liye banaya hai. Us vishv ke chhote ansh rup prthvi ka kya sthan hai. Prthvi ke upar gatiman manushy kahan se aaya hai…………
Short Passage of Srashtivad Or Ishwar Hindi PDF Book : When a person raises the head above the head with his constant action and hurts the directions, then he experiences a kind of wonder. Who has created such a large world and for whom? The smallest part of that world is the place of the Earth. Where did the man moving above the earth come from…………
“हम जिस चीज़ की तलाश कहीं और कर रहे होते हैं वह हो सकता है कि हमारे पास ही हो।” ‐ हारवी कॉक्स
“What we are seeking so frantically elsewhere may turn out to be the horse we have been riding all along.” ‐ Harvey Cox

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment