स्वतन्त्रयोत्तर काल में जालौन जनपद में जनसँख्या वृध्दि का कृषि विकास पर प्रभाव : श्रीमती पुष्पांजलि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कृषि | Swatantrayottr Kaal May Jaluan Janpad May Janshankshya Bridhi Ka Krishi Vikas Par Prabhav : by Shrimati Puspanjali Hindi PDF Book – Agriculture ( Krishi )

स्वतन्त्रयोत्तर काल में जालौन जनपद में जनसँख्या वृध्दि का कृषि विकास पर प्रभाव : श्रीमती पुष्पांजलि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कृषि | Swatantrayottr Kaal May Jaluan Janpad May Janshankshya Bridhi Ka Krishi Vikas Par Prabhav : by Shrimati Puspanjali Hindi PDF Book - Agriculture ( Krishi )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name स्वतन्त्रयोत्तर काल में जालौन जनपद में जनसँख्या वृध्दि का कृषि विकास पर प्रभाव / Swatantrayottr Kaal May Jaluan Janpad May Janshankshya Bridhi Ka Krishi Vikas Par Prabhav
Author
Category
Language
Pages 286
Quality Good
Size 88 MB
Download Status Available

स्वतन्त्रयोत्तर काल में जालौन जनपद में जनसँख्या वृध्दि का कृषि विकास पर प्रभाव का संछिप्त विवरण : ग्रामीण भारतीय आर्थव्यवस्था का मूल आधार कृषि है | स्वतंत्रता प्राप्ति के ५५ वर्ष बीत जाने के उपरांत भी कृषि और उससे सम्बंधित कार्यो में यहाँ की लगभग तीन चौथाई जनसँख्या निर्भर पाई जाती है | पांचचे दशक के उपरांत कृषि आर्थिकी पर जनसँख्या का दबाव बहुत तेजी से बढ़ा है……..

Swatantrayottr Kaal May Jaluan Janpad May Janshankshya Bridhi Ka Krishi Vikas Par Prabhav PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Gramin bhartiy aarthvyavastha ka mool aadhar krshi hai. Svatantrta prapti ke 55 varsh bit jane ke uprant bhi krshi aur usse sambandhit karyo mein yahan ki lagbhag tin chauthai jansankhya nirbhar pai jati hai. Panchave dashak ke uprant krshi aarthiki par jansankhya ka dabav bahut teji se badha hai…………
Short Description of Swatantrayottr Kaal May Jaluan Janpad May Janshankshya Bridhi Ka Krishi Vikas Par Prabhav PDF Book : The basic premise of rural Indian economy is agriculture. After 55 years of independence, nearly three quarters of the population here are found dependent on agriculture and related work. After the fifth decade the pressure of the population on agricultural economics has increased very fast…………
“सम्मान रहित सफलता नमक रहित भोजन की तरह होती है; इससे आपकी भूख तो मिट जाएगी, लेकिन यह स्वादिष्ट नहीं लगेगी।” – जो पैटेर्नो
“Success without honor is an unseasoned dish; it will satisfy your hunger, but it won’t taste good. ” – Joe Paterno

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment