तरुण भारत : पं० देवनारायण द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Tarun Bharat : by Pt. Devnarayan Dwivedi Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameतरुण भारत / Tarun Bharat
Author
Category, , ,
Language
Pages 116
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कही जा सकती; कहने की पूर्ण इच्छा होने पर भी नहीं कही जा सकती | क्योंकि फिर उन बातों को प्रकट करने की शक्ति वाणी म रही नहीं जाती । मैं जैसा इशारे से सुनता गया वैसा लिखता गया। थोड़ी देर चुप रहने के बाद उन्होंने फिर कहा कि, भीतर का द्वार खोलने में एक विशेष निपुणता है ? वह द्वार बिना प्रत्यक्ष ज्ञान के नहीं खोला जा खकता | उसके ख़ुलने की किल्‍्ली ही बहुत ऊपर है। उसके लिये भविष्य-दोतक सहायक…

Pustak Ka Vivaran : Kahi ja Sakati ; kahane ki purn ichchha hone par bhi nahin kahi ja sakati. Kyonki phir un baton kon prakat karane ki shakti vani ma rahi nahin jati . main jaisa ishare se sunata gaya vaisa likhata gaya. Thodi der chup rahane ke bad unhonne phir kaha ki, bheetar ka dvar kholane mein ek vishesh nipunata hai ? Vah dvar bina pratyaksh gyan ke nahin khola ja khakata. usake khulane ki killi hi bahut oopar hai. usake liye bhavishy-dyotak sahayak……..

Description about eBook : Can be said; Even if there is a complete desire to say, it cannot be said. Because then the power to reveal those things is not spoken. I kept writing as I listened to the gestures. After remaining silent for a while, he again said, is there a special skill in opening the inner door? That door cannot be opened without direct knowledge. The fort is at the very top of his blossom. Predictive assistant for him …….

“जब हम किसी नई परियोजना पर विचार करते हैं तो हम बड़े गौर से उसका अध्ययन करते हैं – केवल सतह मात्र का नहीं, बल्कि उसके हर एक पहलू का।” वाल्ट डिज़्नी
“When we consider a new project, we really study it – not just the surface idea, but everything about ¡t.” Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment