देश की बात : देवनारायण द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Desh Ki Baat : by Devnarayan Dwivedi Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameदेश की बात / Desh Ki Baat
Author
Category, ,
Language
Pages 375
Quality Good
Size 26.63 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : साराश यह कि जिन किसानों पर देश का जीवन निभेर है, उन्हीं किसानो की ऐसी दुदेशा हो रही है | जबतक किसानों को दशा देश के लोग नहीं सुधरेंगे, तबतक भारत की कभी भी उन्नति नहीं होगी | इस विदेशी सरकार ने अनावश्यक चीजों को इस कदर आवश्यक बना दिया कि जिसका कोई हिसाब नहीं…….

Pustak Ka Vivaran : Saransh yah ki jin kisanon par desh ka jeevan nirbhar hai, unheen kisano kee aisi durdasha ho rahi hai. Jab Tak kisanon ko dasha desh ke log nahin sudharenge, tabatak bharat kee kabhi bhee unnati nahin hogi. Is videshi sarakar ne anavashyak cheejon ko is kadar aavashyak bana diya ki jisaka koi hisab nahin………….

Description about eBook : In summary, the farmers who are dependent on the country’s life are facing such a plight. Unless the people of the country improve the condition of the farmers, then India will never prosper. This foreign government made unnecessary things so important that no account of which………….

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।” ‐ सेनेका
“It is not because things are difficult that we do not dare; it is because we do not dare that things are difficult.” ‐ Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment