ठेले पर हिमालय : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Thele Par Himalay : by Dharamveer Bharti Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameठेले पर हिमालय / Thele Par Himalay
Author
Category, , ,
Language
Pages 195
Quality Good
Size 5.6 MB

पुस्तक का विवरण : सच तो यह है कि सिफ़ बफ़ को बहुत निकट से देख पाने के लिए ही हम लोग कौसानी गये थे । नैनीताल से रानीखेत भौर रानीखेत से मझकाली के अयानक भोड़ों को पार करते हुए कोसी। कोसी से एक सड़क अल्मोड़े चली जाती है, दूसरी कौसानी । कितना कष्टप्रद, कितना सूखा और कितना कुरूप है वह रास्ता । पानी का कहीं नाम-निशान नहीं……..

Pustak Ka Vivaran : Sach to yah hai ki sif baf ko bahut nikat se dekh pane ke liye hi ham log kausani gaye the. Nainital se Ranikhet bhaur Ranikhet se Majhakali ke ayanak bhodon ko par karate huye kosi. Kosi se ek sadak almode chali jati hai, doosri kausani . kitana kashtaprad, kitana sookha aur kitana kuroop hai vah rasta. Pani ka kahin nam-nishan nahin……..

Description about eBook : In fact, we went to Kausani just to see the buff very closely. From Nainital to Ranikhet and from Ranikhet to Majhkali, the Kosi crossing. From Kosi one road goes to Almora, the other to Kausani. How painful, how dry and how ugly is that road. There is no name-mark of water anywhere……….

“सफ़लता ने कई व्यक्तियों को विफल कर दिया है।” सी. एडम्स
“Success has made failures of many men.” C. Adams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment