हिमालय की वेदी पर : यज्ञदत्त शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Himalay Ki Vedi Par : by Yagyadutt Sharma Hindi PDF Book- Novel (Upanyas)

Book Nameहिमालय की वेदी पर / Himalay Ki Vedi Par
Author
Category
Language
Pages 154
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस उपन्यास को लिखकर यजदत्त शर्मा ने उससे आगे की समस्याओ पर विचार किया | ये समस्याए विशेष रूप से चीनी आक्रमण, उनके पीछे हटने और उससे बाद की पृस्ठभूमि पर आधारित है | जिन रहस्यों का उद्दघाटन बहुत बाद में हुआ और कुछ का अभी तक हो भी नहीं पाया है, उनपर उपन्यासकार ने विचार किया और इस नवीन उपन्यास की रचना की…….

Pustak Ka Vivaran : Is Upanyas ko likhkar yanadatt sharma ne usse age ki samasyao par vichar kiya. Ye samasyae vishesh roop se chini akraman, Unke pichhe hatne aur usse bad ki prsthabhoomi par adharit hai. Jin rahasyon ka uddghatan bahut bad mein hua aur kuchh ka abhi tak ho bhi nahin paya hai, Unpar Upanyaskar ne vichar kiya aur is navin upanyas ki rachana ki……….………

Description about eBook : Writing this novel, Yunadutt Sharma considered the problems ahead of him. These problems, especially Chinese aggression, are based on their retreat and subsequent background. The mysteries which were inaugurated very later and some have not yet been found, the novelist has considered them and created this new novel………

“स्वयं कर्म, जब तक मुझे यह भरोसा होता है कि यह सही कर्म है, मुझे संतुष्टि देता है।” ‐ जवाहर लाल नेहरु
“Action itself, so long as I am convinced that it is right action, gives me satisfaction.” ‐ Jawaharlal Nehru

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment