सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

त्रिधारा / Tridhara

त्रिधारा : बाबू प्रभातकुमार मुखोपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Tridhara : by Babu Prabhatkumar Mukhopadhyay Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name त्रिधारा / Tridhara
Author
Category, , , ,
Language
Pages 159
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : युवा का नाम है बलदेवसिंह वर्मा। यह है डेप्युटी कलक्टर-महकमे माल का दूसरा हाकिम। इसके पिता एक प्रख्यात, प्रथम ग्रेड के डेप्युटी थे। पेंशन ग्रहण करते समय साहबों से कह-सुनकर, तुरन्त ही बी० ए० पास कर निकले हुए, इस बड़े बेटे को डेप्युटी कलेक्टरी में भर्ती कराकर वे छः महीने पश्चात्‌ निश्चिन्त मन से परलेक-यात्री हो गये। यह तीन वर्ष की बात है…….

 

Pustak Ka Vivaran : Yuva ka Nam hai Baladevasinh Varma. Yah hai Deputies Collector-mahakame mal ka doosara hakim. Isake Pita ek prakhyat, pratham gred ke deputies the. Penshan grahan karate samay sahabon se kah-sunakar, turant hee B.A pas kar nikale huye, is bade bete ko Deputies Collector mein bhartee karakar ve chhah maheene pashchat‌ Nishchint man se paralek-Yatri ho gaye. Yah teen varsh kee bat hai……..
Description about eBook : The name of the youth is Baldev Singh Verma. This is the second collector of the deputies collector-department store. His father was an eminent, first grade deputies. After receiving the pension, immediately after passing the B.A., after receiving the pension, after accepting the pension, he admitted to the deputies collectorate, and after six months, he became a perk-traveler with a determined mind. It is a matter of three years………
“जब तक आप न चाहें तब तक आपको कोई भी ईर्ष्यालु, क्रोधी, प्रतिशोधी, या लालची नहीं बना सकता है।” नेपोलियन हिल
“No one can make you jealous, angry, vengeful, or greedy–unless you let him.” Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment