वैशाली की दत्तक पुत्री : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Vaishali Ki Dattak Putri : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

वैशाली की दत्तक पुत्री : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Vaishali Ki Dattak Putri : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वैशाली की दत्तक पुत्री / Vaishali Ki Dattak Putri
Author
Category, , ,
Language
Pages 298
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

वैशाली की दत्तक पुत्री का संछिप्त विवरण : देखिए, न, हर कोई अपनी-अपनी औकात के माफिक बन-ठनकर रहता हैं। गोया कि सभी ने मालिक की फूहड कसीदाकारी पर एक-न-एक पैबंद लगा लिया है, और एक यह हैं चिकने घड़े | व्यंग्य कीजिये, हँसकर टाल देंगे। कलर इनका नहीं । दिमाग़ खराब करने को इनके मँहजले दोस्त क्या कम हैं | कहते हैं, शायर और अदीबों को सब कुछ ज़ेबा देता है; मैं पूछती हैँ………

Vaishali Ki Dattak Putri PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dekhiye, na, har koi apni-apni aukat ke maphik ban-thankar rahata hain. Goya ki sabhi ne malik ki phoohad kasidakari par ek-na-ek paiband laga liya hai, aur ek yah hain chikane ghade . Vyangy keejiye, hanskar tal denge. Kalar inaka nahin . dimag kharab karane ko inake manhajale dost kya kam hain. Kahate hain, shayar aur adeebon ko sab kuchh zeba deta hai; main poochhati hain………..
Short Description of Vaishali Ki Dattak Putri PDF Book : Look, no, everyone is happy with their respective positions. Goya has all put a patch on the owner’s fur embroidery, and it is a smooth pot. Be sarcastic, we will postpone it by laughing. Color is not theirs. What are their friends who want to spoil their brains? It is said that Zeba gives everything to the poets and the tribes; I ask ………
“मूर्ख व्यक्ति स्वयं को बुद्धिमान मानता है लेकिन बुद्धिमान व्यक्ति स्वयं को मूर्ख मानता है।” विलियम शेक्सपियर
“A fool thinks himself to be wise, but a wise man knows himself to be a fool.” William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment