वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-9 : चन्द्रराज भण्डारी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-9 : by Chandraraj Bhandari Hindi PDF Book

वनौषधि - चन्द्रोदय भाग-9 : चन्द्रराज भण्डारी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-9 : by Chandraraj Bhandari Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-9 / Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-9
Author
Category,
Pages 196
Quality Good
Size 7.5 MB
Download Status Available

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-9 का संछिप्त विवरण : शरीर के ऊपर राई की क्रिया ति्रपर्णी की क्रिया के समान होती है। यह छोटी मात्रा में दीपन, पाचन, उत्तेजक और पसीना लाने वाली होती है। बड़ी मात्रा में यह वामक होती है | इसको बड़ी मात्रा में लेने से तुरन्त वमन होती है मगर यह वमन घातक नहीं होती……..

Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-9 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sharir ke oopar rai ki kriya tilaparni ki kriya ke saman hoti hai. Yah chhoti matra mein dipan, pachan, uttejak aur pasina lane vali hoti hai. Badi matra mein yah vamak hotee hai. Isako badi matra mein lene se turant vaman hoti hai magar yah vaman ghatak nahin hoti………….
Short Description of Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-9 PDF Book : The action of the mustard on the body is similar to the action of Tilaparni. It is a small amount of lamp, digestion, stimulants and sweating. In large amounts it is bamboo. It takes a lot of vomiting immediately, but this vomiting is not fatal…………
“कभी संदेह न करें कि विचारशील नागरिकों का छोटा समूह दुनिया बदल सकता है। वास्तव में, कभी कुछ बदला है तो ऐसे ही।” माग्रेट मीड
“Never doubt that a small group of thoughtful citizens can change the world. Indeed, it is the only thing that ever has.” Margaret Mead

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment