विलासी : शरतचन्द्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Vilasi : by Sharatchandra Hindi PDF Book – Story (Kahani)

विलासी : शरतचन्द्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Vilasi : by Sharatchandra Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विलासी / Vilasi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

विलासी का संछिप्त विवरण : परन्तु रहने दो इन सब व्यर्थ बातों को । स्कूल जाता हूँ – दो कोस के बीच ऐसे ही और दो-तीन गाँव पार करने पड़ते हैं। किसके बाग में आम पकने शुरू हुए हैं, किस जंगल में करोंदे काफ़ी लगे हैं, किस के पेड़ पर कटहल पकने को हैं, किसके अमृतवान केले की गहूर कटने वाली ही है, किसके घर के सामने वाली झाड़ी में……..

Vilasi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Parantu Rahane do in sab vyarth baton ko . School jata hoon – do kos ke beech aise hi aur do-teen Ganv par karane padate hain. Kiske bag mein Aam pakane shuru huye hain, kis jangal mein karonde kafi lage hain, kis ke ped par katahal pakane ko hain, kisake amrtavan kele ki gahoor katane vali hi hai, kisake ghar ke samane vali jhadi mein……..
Short Description of Vilasi PDF Book : But let all these useless things be. I go to school – I have to cross two-three villages like this between two Kos. In whose garden mangoes have started to ripen, in which forest there are plenty of cherries, on whose tree the jackfruit is about to ripen, whose nectar of banana is about to be harvested, in the bush in front of whose house……..
“अपनों में दूसरों की रुचि जगाने का प्रयास कर आप जितने मित्र दस वर्षों में बना सकतें हैं, उससे कहीं अधिक मित्र आप दूसरों में अपनी रुचि दिखा कर एक माह में बना सकते हैं।” – चार्ल्स ऐलन
“You can make more friends in a month by being interested in them than in ten years by trying to get them interested in you.” – Charles Allen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment