यथार्थ से आगे : भगवतीप्रसाद वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Yathartha Se Aage : by Bhagwati Prasad Vajpeyi Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameयथार्थ से आगे / Yathartha Se Aage
Author
Category, , ,
Language
Pages 366
Quality Good
Size 30 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिवरण : प्रदीप कभी यह भूल न पाता था कि मेरे पिता कितने सीधे, सच्चे और उच्च बिचार के पुरुष थे | लेकिन अपने मधुरभाषी चरित्र दुर्बल मित्रों के कारण बे प्राय: कितने चिन्तित और दुखी रहा करते थे | कभी-कभी बह अपने आप से यह पूछता रहता की जब बे एक ,महामानव थे, तब उनका साथ ऐसे लोगों से हुआ ही क्यों……

Pustak Ka Vivaran : Pradeep kabhi yah bhul na pata tha ki mere pita kitane seedhe, sachche aur uchch vichar ke purush the. Lekin apane madhurabhashi charitr durbal mitron ke karan ve pray: kitane chintit Aur dukhi Raha karate the. kabhi-kabhi vah apane Aap se yah poochhata Rahata ki jab ve Ek ,Mahamanav the, Tab unaka sath aise logon se huya hi kyon………….

Description about eBook : Pradeep never forgot how my father was men of direct, true and high opinion. But they were often anxious and unhappy because of their sweet-spoken character weak friends. Sometimes he kept asking himself if he was a great man, then why did he get along with such people?…………..

“भाग्य कोई संयोग का विषय नहीं है। यह विकल्प का विषय है। यह कोई ऐसी वस्तु नहीं है जिसके लिए प्रतीक्षा की जाए, यह वह वस्तु है जिसे प्राप्त किया जाना चाहिए।” विलियम जेन्निंग्स बर्यान
“Destiny is no matter of chance. It is a matter of choice: It is not a thing to be waited for; it is a thing to be achieved. -” William Jennings Bryan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment