जीरो माने कुछ नहीं कुछ भी नहीं : मो० उमर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – गणित | Zeero Mane Kuchh Nahin Kuchh Bhi Nahin : by Mohd. Umar Hindi PDF Book – Math (Ganit)

Book Nameजीरो माने कुछ नहीं कुछ भी नहीं / Zeero Mane Kuchh Nahin Kuchh Bhi Nahin
Author
Category, ,
Language
Pages 11
Quality Good
Size 503 KB
Download Status Available

जीरो माने कुछ नहीं कुछ भी नहीं का संछिप्त विवरण : मेरे पड़ोस में रहने वाले रोहित और अनुराग दोनों भाई हैं, उनकी दोस्त है महिमा। रोहित कक्षा एक में पढ़ता है, अनुराग दो में और महिमा कक्षा तीन में। ये बच्चे अक्सर मेरे घर के सामने ही खेला करते हैं। कभी- कभी मैं इनसे खेल-खेल में ही गणित के मौखिक सवाल करता रहता हूँ। घरों में रोज़मर्रा के उपयोग में आने वाले सामान जैसे साबुन……..

Zeero Mane Kuchh Nahin Kuchh Bhi Nahin PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mere Pados mein rahane vale rohit aur anurag donon bhai hain, unaki dost hai mahima. Rohit kaksha ek mein padhata hai, anurag do mein aur mahima kaksha teen mein. Ye bachche aksar mere ghar ke samane hi khela karate hain. Kabhi- kabhi main inase khel-khel mein hi Ganit ke maukhik saval karata rahata hoon. Gharon mein Rozmarra ke upayog mein aane vale saman jaise sabun……..
Short Description of Zeero Mane Kuchh Nahin Kuchh Bhi Nahin PDF Book : Both Rohit and Anurag are brothers living in my neighborhood, their friend is Mahima. Rohit studies in class one, Anurag in class two and Mahima in class three. These children often play in front of my house. Sometimes I keep asking them verbal questions of mathematics in sports. Everyday household items like soap………
“सबसे बुद्धिमान व्यक्ति के लिए अभी भी कुछ सीखना बाकी होता है।” ‐ जॉर्ज संटायाना
“The wisest mind has something yet to learn.” ‐ George Santayana

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment