हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

ज़ीरो टू हीरो / Zeero To Heero

ज़ीरो टू हीरो : रश्मि बंसल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Zeero To Heero : by Rashmi Bansal Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ज़ीरो टू हीरो / Zeero To Heero
Author
Category,
Language
Pages 284
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रेम तब सत्रह साल के थे, बाहर की दुनिया देने की उत्सुकता थी। बिना किसी को बताए वे सपनों की नगरी की ओर निकल गए। किसी हिंदी फिल्म का प्लॉट लग सकता है ये, लेकिन इसके बाद जो हुआ वो वाकई बहुत फ़िल्मी था। जिस इकलौते इंसान को प्रेम इतनी बड़ी मुंबई में जानते थे , वो इकलौते इंसान उन्हें बांद्रा स्टेशन पर अकेला छोड़कर……..

Pustak Ka Vivaran : Prem tab Satrah saal ke the, Bahar kee duniya dene kee utsukata thee. bina kisi ko bataye ve sapanon kee Nagari kee or nikal gaye. Kisi hindee film ka plot lag sakata hai ye, lekin isake bad jo huya vo vaki bahut filmy tha. jis ikalaute insan ko prem itanee badee mumbi mein janate the , vo ikalaute insan unhen bandra steshan par akela chhodakar…………

Description about eBook : Prem was seventeen years old, eager to give the outside world. He left the city of dreams without telling anyone. The plot of a Hindi film may look like this, but what happened after that was really very filmy. The only man whom Prem knew in such a big Mumbai, that the only person left him alone at Bandra station………………

“लहर को सही समय पर पकड़ने में किस्मत साथ दे सकती है, पर उसके साथ आगे बढ़ पाना आप पर है।” जिमोह ओबिएगेल
“Luck is in catching the wave, but then you have to ride it.” Jimoh Ovbiagele

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment