अभिज्ञान : नरेन्द्र कोहली द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक – उपन्यास | Abhigyan : by Narendra Kohli Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

अभिज्ञान : नरेन्द्र कोहली द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक - उपन्यास | Abhigyan : by Narendra Kohli Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अभिज्ञान / Abhigyan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 234
Quality Good
Size 4 MB

पुस्तक का विवरण : ‘‘इस बार बहुत दिनों पर चक्कर लगा बाबा !’’ सुदामा ने बाबा का झोला एक खूंटी पर टांग दिया। सुशीला ने तिनकों का बना आसन-भूमि पर बिछा दिया,‘‘बैठिए बाबा !’’ बाबा ने सुदामा को कोई उत्तर नहीं दिया। आसन पर बैठकर पहले तो सांस को नियंत्रित-सा करते रहे और फिर सुशीला की ओर उन्मुख होकर बोले, ‘‘कैसी हो बेटी ?’’ सुशीला मुस्कराई, ‘‘हम कैसे होंगे बाबा ! जैसे आप छोड़ गए थे………

Pustak Ka Vivran : Is Bar bahut dinon par chakkar laga baba !’’ Sudama ne baba ka jhola ek khoonti par tang diya. Susheela ne tinakon ka bana aasan-bhoomi par bichha diya,‘‘Baithiye baba !’’ Baba ne sudama ko koi uttar nahin diya. Aasan par baithakar pahale to sans ko Niyantrit-sa karate rahe aur phir sushila ki or unmukh hokar bole, ‘‘Kaisi ho beti ?’’ Susheela muskarai, ‘‘Ham kaise honge baba ! Jaise aap chhod gaye the………

Description about eBook : This time Baba felt dizzy for a long time!” Sudama hung Baba’s bag on a peg. Sushila laid a pedestal made of straws on the ground, “Sit down, Baba!” Baba did not give any answer to Sudama. Sitting on the seat, at first controlling the breath and then turning towards Sushila said, “How are you daughter?” Sushila smiled, “How will we be Baba! Like you left………

“जो तुच्छ मामलों में सत्य के साथ लापरवाह हो उस पर महत्त्वपूर्ण मामलों में ऐसा नहीं करने का भरोसा नहीं किया जा सकता है।” ‐ अल्बर्ट आइंसटीन
“Whoever is careless with the truth in small matters cannot be trusted with important matters.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment