अध्यात्मसार : आचार्य जिनविजय मुनि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Adhyatmasar : by Achary Jinvijay Muni Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

अध्यात्मसार : आचार्य जिनविजय मुनि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Adhyatmasar : by Achary Jinvijay Muni Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अध्यात्मसार / Adhyatmasar
Author
Category
Language
Pages 484
Quality Good
Size 17 MB
Download Status Available

अध्यात्मसार पुस्तक का कुछ अंश : इस विश्व में वास्तविक आत्मज्ञान के बिना जीव यह नहीं जान सकता कि दुःख कैसे दूर होता है ? सच्चा सुख क्या है ? वह कैसे मिल सकता है ? इसलिए सम्यग्द्ृष्टि आत्मा को यह इृढ़ निश्चय करना चाहिए की आत्मा है, वह शरीर से भिन्‍न शाश्वत है | इस निश्चय के बाद आत्मा कैसी है ? कैसी होनी चाहिए ? इसका स्पष्ठरूप से विवेकपूर्वक विचार करना जररी है……….

Adhyatmasar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Is vishv mein vastavik Atmgyan ke bina jiv yah nahin jan sakta ki duhkh kaise door hota hai ? Sachcha sukh kya hai ? Vah kaise mil sakta hai ? Islie samyagdrshti Atma ko yah drdh nishchay karna chahie ki Atma hai, vah sharir se bhinn shashvat hai. Is nishchay ke bad Atma kaisi hai ? Kaisi honi chahie ? Iska spashthroop se vivekpoorvak vichar karna jaruri hai……….……….
Short Passage of Adhyatmasar Hindi PDF Book : Without real enlightenment in this world, the creature can not know how the pain goes away. What is true happiness? How can he get it? Therefore, sensuality should be determined by the soul that it is the soul, it is eternal from the body. How is the soul after this determination? How should i be It is necessary to think carefully………
“हर दिन मेरा सर्वश्रेष्ठ दिन है; यह मेरी जिन्दगी है। मेरे पास यह क्षण दुबारा नहीं होगा।” बर्नी सीगल
“Every day is my best day; this is my life. I’m not going to have this moment again.” Bernie Siegel

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment