अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ : डॉ. ब्रहमानंद त्रिपाठी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth : Dr. Brahamanand Tripathi Free Hindi PDF Book

अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ : डॉ. ब्रहमानंद त्रिपाठी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Ashtanga Hrdayam Ayurveda Granth : Dr. Brahamanand Tripathi Free Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ / Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth
Author
Category, , ,
Language
Pages 387
Quality Good
Size 73 MB
Download Status Available

अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ का संछिप्त विवरण : जो राग आदि रोग सदा मानव मात्र के पीछे लगे रहते हैं, जो सम्पूर्ण शरीर में फैले रहते हैं और जो उत्सुकता, मोह तथा बेचैनी को उत्पन्न करते रहते हैं, उन सबको जिसने नष्ट किया उस अपूर्व वैध्य को हमारा नमस्कार हो…………..

Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jo Rag aadi rog sada manav matra ke peechhe lage rahate hain, jo sampurn shareer mein phaile rahate hain aur jo utsukata, moh tatha bechaini ko utpann karte rahate hain, un sabko jisane nasht kiya us apoorv vaidhy ko hamara Namaskar ho………
Short Description of Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth PDF Book : Those chants, etc., are always behind the human being, which are spread throughout the body and who continue to create curiosity, attachment and restlessness, who are the ones who destroyed all those humbleas………………
“यदि आप प्रतिभा के साथ उत्कृष्टता प्राप्त नहीं कर सकते हैं, तो प्रयास से विजयी बनें।” ‐ डेव वीनबाउम
“If you can’t excel with talent, triumph with effort.” ‐ Dave Weinbaum

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

6 thoughts on “अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ : डॉ. ब्रहमानंद त्रिपाठी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth : Dr. Brahamanand Tripathi Free Hindi PDF Book”

  1. अष्टांग हृदयम पुस्तक हमें चाहिए कृप्या करके इस पुस्तक का रेट बताए

    Reply
  2. पुस्तक के लेखक maharishi vagbhatt ji hain na ki डॉ. ब्रहमानंद त्रिपाठी

    Reply
  3. अष्टांग ह्रदायम पुस्तक महर्षि वाग्वट जी ने लिखा था। संस्कृत एवं सूत्र में,जो समस्त मानव को दान में दिया हैं।ब्रम्हानन्द त्रिपाठी सिर्फ संस्कृत से अनुवाद किया हैं। वो सिर्फ अनुवादक हैं लेखक नहीं।

    Reply

Leave a Comment