बहन को सीख : मुकुटबिहारी वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bahan Ko Seekh : by Mukut Bihari Verma Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बहन को सीख : मुकुटबिहारी वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bahan Ko Seekh : by Mukut Bihari Verma Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बहन को सीख / Bahan Ko Seekh
Author
Category,
Language
Pages 99
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : छोटी-सी पुस्तक की लम्बी-चौड़ी भूमिका लिखना ठीक नहीं । संक्षेप में यह बता देना ही ठीक होगा कि नेहरू जी (जवाहरलाल) की “पिता के पत्र पुत्री के नाम’ तथा पत्रों के रूप में लिखी अंग्रेज़ी की एक अन्य पुस्तक को पढ़कर मुझे लगा कि किसी विषय को समझने का यह अच्छा तरीक़ा है । उसी का परिणाम यह प॒स्तक है……….

Pustak Ka Vivaran : Chhoti-si Pustak kee Lambi-Chaudi Bhoomika likhana theek nahin . Sankshep mein yah bata dena hee theek hoga ki neharoo jee (javaaharalal) kee “pita ke patr putri ke Nam Tatha Patron ke Roop mein likhi Angregi kee ek any Pustak ko Padhakar mujhe laga ki kisi vishay ko samajhane ka yah Arachchha Tariqa hai . Usi ka Parinam yah Pustak hai………….

Description about eBook : It is not good to write a long-running role of a small book. To summarize, it would be better to read that by reading Nehru ji (Jawaharlal )’s “Father’s letter daughter’s name” and another English book written in the form of letters, I felt that this is a good way to understand a subject. The result of this book is…………

“जब तक किसी व्यक्ति द्वारा अपनी संभावनाओं से अधिक कार्य नहीं किया जाता है, तब तक उस व्यक्ति द्वारा वह सब कुछ नहीं किया जा सकेगा जो वह कर सकता है।” ‐ हेनरी ड्रम्मन्ड
“Unless a man undertakes more than he possibly can do, he will never do all that he can.” ‐ Henry Drummond

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment