बहुपत्नीवाद : मौलाना वहीदुद्दीन खान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bahupatnivad : by Maulana Waheeduddin Khan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बहुपत्नीवाद : मौलाना वहीदुद्दीन खान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bahupatnivad : by Maulana Waheeduddin Khan Hindi PDF Book – Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बहुपत्नीवाद / Bahupatnivad
Author
Category, ,
Language
Pages 12
Quality Good
Size 8.5 MB
Download Status Available

बहुपत्नीवाद का संछिप्त विवरण : इसी तरह तमाम औद्योगिक देशों में लगातार युद्ध-हथियारों के प्रयोग हो रहे हैं. उनमें बराबर लोग मरते रहते हैं. इन प्रयोगों से मरने वालों की तादाद कभी नहीं बताई जाती, फिर भी यह निश्चित है कि इनमें भी पूर्णतः मर्द ही होते हैं जो बेमौत मारे जाते हैं. इस तरह के अनेक कारणों से हालत यह पैदा हो जाती है कि औरतों की तादाद अपेक्षाकृत ज़्यादा हो जाती है और मर्दों की संख्या……

Bahupatnivad PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Isi Tarah tamam audyogik deshon mein lagatar yuddh-hathiyaron ke prayog ho rahe hain. Unamen barabar log marate rahate hain. In prayogon se marane valon ki Tadad kabhi nahin batayi jati, phir bhi yah nishchit hai ki inamen bhi purnatah mard hi hote hain jo bemaut mare jate hain. Is tarah ke anek karanon se halat yah paida ho jati hai ki auraton ki tadad apekshakrt zyada ho jati hai aur mardon ki sankhya………
Short Description of Bahupatnivad PDF Book : In the same way, the use of war weapons is being done continuously in all industrialized countries. Equally people die in them. The number of those who died from these experiments is never told, yet it is certain that even these are the only men who are killed completely. Due to many such reasons, the condition arises that the number of women is relatively more and the number of men ……
“यह मत मानिए कि जीत ही सब कुछ है, अधिक महत्त्व इस बात का है कि आप किसी आदर्श के लिए संघर्षरत हों। यदि आप किसी आदर्श पर डट नहीं सकते तो आप जीतेंगे क्या?” ‐ लेन कर्कलैंड
“Don’t believe that winning is really everything. It’s more important to stand for something. If you don’t stand for something, what do you win?”” ‐ Lane Kirkland

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment