बहुतेरे हैं घाट : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bahutere Hain Ghat : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

बहुतेरे हैं घाट : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bahutere Hain Ghat : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बहुतेरे हैं घाट / Bahutere Hain Ghat
Author
Category, ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 992 KB

पुस्तक का विवरण : नदी को पार करना हो तो अलग-अलग घाटों से नदी पार की जा सकती है। अलग-अलग नावों में बैठा जा सकता है। अलग-अलग मांझी हो सकते हैं। अलग होंगी पतवारें। लेकिन उस पार पहुंच कर सब अलगपन मिट जाएगा। फिर कौन पूछता है-“किस नाव से आए ? कौन था मांझी ? नाव का बनाने वाला कारीगर कौन था ? नाव इस लकड़ी की बनी थी या उस लकड़ी की बनी थी………

बहुतेरे हैं घाट : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bahutere Hain Ghat : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Nadi ko par karna ho to Alag-Alag Ghaton se Nadi par ki ja sakti hai. Alag-Alag Navon mein baitha ja sakta hai. alag-alag manjhi ho sakate hain. Alag hongi patvaren. Lekin us par pahunch kar sab Alagapan mit jayega. Phir kaun poochhata hai-“Kis Nav se aaye? Kaun tha Manjhi ? Nav ka banane vala karigar kaun tha ? Nav is lakadi ki bani thi ya us lakadi ki bani thi………

Description about eBook : If the river has to be crossed, then the river can be crossed from different ghats. Can be seated in different boats. There may be different boaters. The hulls will be different. But by reaching beyond that, all separation will disappear. Then who asks – “Which boat did you come from? Who was the boatman? Who was the craftsman of the boat? Was the boat made of this wood or made of that wood………

“बेहतर प्रतिष्ठा पैसे से कहीं अधिक मूल्यवान होती है।” -पब्लिलियस सायरस
“A good reputation is more valuable than money.” – Publilius Syrus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment