बन्दर की मूछें : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Bandar Ki Moochhen : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameबन्दर की मूछें / Bandar Ki Moochhen
Author
Category, , , ,
Language
Pages 43
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

बन्दर की मूछें का संछिप्त विवरण : नदी के मोड़ पर एक छोटा सा शहर था. उस शहर में एक नाई की दुकान थी. जब बन्दर ने अन्दर झाँका तो उसने नाई को एक आदमी की दाढ़ी बनाते हुए देखा. फिर बन्दर अपने मन में सोचने लगा. अगर मैं अपनी मूंछे मुंडवा दूं तो फिर मैं देखने में कैसा लगूंगा? फिर वो झट से नाई की कुर्सी पर जाकर बैठ गया और उसने जल्दी से नाई………

Bandar Ki Moochhen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Nadei ke mod par ek chhota sa shahar tha. Us Shahar mein ek nayi ki dukan thee. Jab Bandar ne Andar jhanka to usane nayi ko ek Aadami kee dadhi banate huye dekha. Phir Bandar Apane man mein sochane laga. Agar main Apani Moonchhe mundava doon to phir main dekhane mein kaisa lagoonga? Phir vo Jhat se nayi ki kursi par jakar baith gaya aur usane jaldi se nayi…………
Short Description of Bandar Ki Moochhen PDF Book : There was a small town at the bend of the river. There was a barber shop in that city. When the monkey looked inside, he saw the barber shaving a man. Then the monkey started thinking in his mind. If I shave my mustache then how will I look? Then he quickly sat in the barber’s chair and he hastily hailed the barber …………
“विश्व का एक ही कोना है जिसका सुधार कर पाना आपके हाथ में है, और वह है अाप स्वयं।” ‐ ऐल्डस हक्सलि
“There’s only one corner of the universe you can be certain of improving and that’s your own self.” ‐ Aldous Huxley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment