बेटी का कर्ज : सतीश यादव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Beti Ka Karz : by Satish Yadav Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

बेटी का कर्ज : सतीश यादव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Beti Ka Karz : by Satish Yadav Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बेटी का कर्ज / Beti Ka Karz
Author
Category, ,
Language
Pages 5
Quality Good
Size 767 KB
Download Status Available

बेटी का कर्ज पुस्तक का कुछ अंश : “नहीं पापा मैं आपको इस हाल में कदापी नहीं रहने दूंगी। आपको मेरे साथ चलना ही पड़ेगा। ये मेरा हक है पापा की मैं भी आपकी सेवा करू, सिर्फ भैया भाभी नहीं।” हक जताते हुए संजना ने कहा तो पापा उसे आश्चर्य, विस्मथ और करुणा के मिश्रित भाव से एकटक देखने लगे। उन्हें सहसा जैसे अपने कानों पर विश्वास नहीं हो रहा था……

Beti Ka Karz PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : “Nahin papa main aapko is haal mein kadapi nahin rahne dungi. Aapko mere sath chalna hi padega. Ye mera hak hai papa ki main bhi aapki seva karu, sirph bhaiya bhabhi nahin.” Hak jatate hue sanjana ne kaha to papa use aashchary, vismay aur karuna ke mishrit bhav se ekatak dekhne lage. Unhen sahasa jaise apne kanon par vishvas nahin ho raha tha………….
Short Passage of Beti Ka Karz Hindi PDF Book : “No, Dad, I will not let you live in this situation, you will have to go with me. It is my right to father, I should serve you, not only brother but sister-in-law.” While accusing Sanjana, the father began to look euphoric with the mixed feelings of wonder, astonishment and compassion. They did not believe in their ears as often as they were……………
“जीवन की आधी असफलताओं का कारण व्यक्ति का अपने घोड़े के छ्लांग लगाते समय उसकी लगाम खींच लेना होता है।‌‌‌” चार्ल्स हेयर
“Half the failures of this world arise from pulling in one’s horse as he is leaping.” Augustus Hare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment