सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

ऋषि दयानन्द की संघर्ष यात्रा / Rishi Dayanand Ki Sangharsh Yatra

ऋषि दयानन्द की संघर्ष यात्रा : आचार्य सतीश द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - जीवनी | Rishi Dayanand Ki Sangharsh Yatra : by Acharya Satish Hindi PDF Book - Biography (Jeevani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ऋषि दयानन्द की संघर्ष यात्रा / Rishi Dayanand Ki Sangharsh Yatra
Author
Category, , , ,
Language
Pages 118
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

ऋषि दयानन्द की संघर्ष यात्रा का संछिप्त विवरण : इसको सार्थकता देने वाला प्रत्यक्ष उदाहरण ऋषि दयानन्द जी के जीवन में दिखाई देता है – “ऋषि दयानन्द जी के पास ऋषिकृत ग्रंथों के साथ हठयोग प्रदीपका, योगबीज आदि ग्रन्थ भी थे। इन ग्रंथो में नदी चक्र आदि का वर्णन दिया गया था। ऋषि के मन में इन चक्रों को साक्षात्‌ देखने और सत्य जानने की इच्छा उपन्न हुई। तब ऋषिवर ने गंगा में बहते हुए शव को किनारे …….

Rishi Dayanand Ki Sangharsh Yatra PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Isako Sarthakata dene vala pratyaksh udaharan rshi dayanand jee ke jeevan mein dikhai deta hai – Rishi dayanand jee ke pas rshikrt granthon ke sath hathayog pradeepaka, yogabeej aadi granth bhee the. In Grantho mein nadee chakr aadi ka varnan diya gaya tha. Rishi ke man mein in chakron ko sakshat dekhane aur saty janane kee ichchha upann huyi. Tab Rishivar ne ganga mein bahate huye shav ko kinare…………
Short Description of Rishi Dayanand Ki Sangharsh Yatra PDF Book : A direct example that gives meaning to this is seen in the life of sage Dayanand ji – “Rishi Dayanand ji also had scriptures like Hatha Yoga Pradeepaka, Yogabija etc. along with the scriptures. The description of river cycle etc. was given in these texts. In the mind of the sage, the desire to see these chakras in person and to know the truth. Then Rishivar drifted the dead body flowing into the Ganges………..
“जब आप अपने मित्रों का चयन करते हैं तो चरित्र के स्थान पर व्यक्तित्व को न चुनें।” ‐ डब्ल्यू सोमरसेट मोघम
“When you choose your friends, don’t be short-changed by choosing personality over character.” ‐ W. Somerset Maugham

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment