भक्ति योग : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bhakti Yog : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)

भक्ति योग : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bhakti Yog : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भक्ति योग / Bhakti Yog
Author
Category, , , ,
Language
Pages 130
Quality Good
Size 2.7 MB

पुस्तक का विवरण : नारद अपने भक्तिसूत्र में कहते हैं. कि “भगवान का परम प्रेम ही भक्ति है। जीव इसका लाभ करके समस्त प्राणियों के प्रति प्रेम-वान्‌ और घृणा शून्य हो जाता है एवं अनन्त काल पर्यन्त तुष्टिलाभ करता है। इस प्रेम के द्वारा कोई काम्य सांसारिक वस्तु की प्राप्ति नहीं हो सकती है। क्योंकि विषय वासना रहते हुये इस प्रेम का उदय ही नहीं होता है। भक्ति कर्म, ज्ञान, और योग से……….

Pustak Ka Vivaran : Narad apne Bhaktisootr mein kahate hain ki “Bhagwan ka param prem hi bhakti hai. Jeev isaka labh karke samast praniyon ke prati prem-van‌ aur ghrna shoony ho jata hai evan anant kal paryant tushtilabh karta hai. Is Prem ke dvara koi kamy sansarik vastu ki prapti nahin ho sakti hai. Kyonki vishay vasana rahate huye is prem ka uday hi nahin hota hai. Bhakti karm, gyan, aur yog se……….

Description about eBook : Narada says in his Bhaktisutra. That “the supreme love of God is devotion. By taking advantage of this, the love-loving and hatred towards all beings becomes nil and gets satisfaction till eternity. Through this love no sane worldly thing can be attained. Because this love does not arise while being the subject of lust. By Bhakti Karma, Gyan, and Yoga………

“कर्म सही या गलत नहीं होता है। लेकिन जब कर्म आंशिक, अधूरा होता है, सही या गलत की बात तब सामने आती है।” ‐ ब्रूस ली
“Action is not a matter of right and wrong. It is only when action is partial, not total, that there is right and wrong.” ‐ Bruce Lee

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment