भालू ने खेली फुटबॉल : हरदर्शन सहगल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Bhaloo Ne Kheli Football : by Hardarshan Sahgal Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameभालू ने खेली फुटबॉल / Bhaloo Ne Kheli Football
Author
Category, ,
Language
Pages 19
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

भालू ने खेली फुटबॉल का संछिप्त विवरण : सर्दियों का मौसम। सुबह का वक्‍त। चारों ओर कोहरा ही कोहरा। एक शेर का बच्चा सिमटकर गोल-मटोल बना जामुन के पेड़ के नीचे पढ़ा था। इधर भालू साहब सैर पर निकल तो आए थे, लेकिन पछता रहे थे। तभी उनकी नजर जामुन के पेड़ के नीचे पड़ी आँखें फाड़ी, अकल दौड़ाई। अहा फुटबाल…………..

Bhaloo Ne Kheli Football PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sardiyon ka mausam. Subah ka vakt. Charon or kohara hee kohara. Ek sher ka bachcha simatakar gol-matol bana jamun ke ped ke neeche padha tha. Idhar bhaloo sahab sair par nikal to aaye the, lekin pachhata rahe the. Tabhi unaki najar jamun ke ped ke neeche padi Ankhen phadi, Akal daudai. Aha Footabal………….
Short Description of Bhaloo Ne Kheli Football PDF Book : winter season. Morning time. Fog all around. A lion child was crushed and read under a berries tree made of chubby. Here, the bear came out on a walk, but he was regretting it. Just then, his eyes got torn under the berries, he ran agile. Aha Football………….
“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” -मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” – Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment