भारतीय दर्शन सामान्य परिचय : श्री व्रजवल्लभ द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharatiya Darshan Samany Parichay : by Shri Vrijvallabh Dwivedi Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameभारतीय दर्शन सामान्य परिचय / Bharatiya Darshan Samany Parichay
Author
Category, , , ,
Language
Pages 133
Quality Good
Size 18.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मोक्ष के बिषय में भी सभी भारतीय दर्शन अपना-अपना मन्तव्य प्रकट करते हैं । सांख्य दर्शन का कहना हैं कि पुरुष बन्ध और मोक्ष दोनों से युक्त’ हैं, वास्तव में बन्ध और मोक्ष प्रकृति के धर्म हैं और ये पुरुष में उपचारित हो जाते हैं । पुरुष से जब प्रकृति अलग हो जाता हैं तो वह अकेला (केवल) रह जाता है और इस केवल्यावस्था में…….

Pustak Ka Vivaran : Moksh ke Vishay mein bhi Sabhi Bharatiya darshan Apna-Apna Mantavy prakat karate hain . Sankhy Darshan ka kahana hain ki Purush Bandh aur Moksh donon se yukt hain, Vastav mein bandh aur Moksh prakrti ke dharm hain aur ye purush mein upacharit ho jate hain . Purush se jab Prakrti Alag ho jata hain to vah Akela (keval) rah jata hai aur is kaivalyavastha mein……….

Description about eBook : Even in the matter of salvation, all Indian philosophies reveal their intentions. Sankhya philosophy says that men are ‘both bound and bound’, in fact, bondage and salvation are nature’s religions and they are cured in man. When nature is separated from man, he remains alone (only) and in this kaivalya state ……….

“प्रकृति को गहराई से देखें, और आप हर चीज़ को बेहतर समझ पाएंगे।” अल्बर्ट आइंस्टीन
“Look deep into nature, and then you will understand everything better.” Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment