भारतीय दर्शन : वाचस्पति गैरोला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharatiya Darshan : by Vachaspati Garola Hindi PDF Book – Social (Samajik)

भारतीय दर्शन : वाचस्पति गैरोला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bharatiya Darshan : by Vachaspati Garola Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय दर्शन / Bharatiya Darshan
Author
Category, ,
Language
Pages 491
Quality Good
Size 15 MB
Download Status Available

भारतीय दर्शन का संछिप्त विवरण : इस श्लोक आशय है ‘सोने के पात्र से सत्य का मुख ढँपा है। पूषन (सारे जगत का पालन करने वाले परमात्मन) उस ढक्वन को हटाइये, जिससे सत्य का, अर्थात ब्रह्मा का या आप का और सनातन रूप ब्रह्मा पर प्रतिष्ठित धर्म का (आत्म-ज्ञानाकूल कर्तव्य का) हमको ‘दर्शन’ हो सके।” इस श्लोक में ‘दृष्टियों का ‘दर्शन’ अर्थ में प्रयोग आत्मसाक्षात्कार या ब्रह्मा………….

Bharatiya Darshan PDF Pustak ka Sanchhipt Vivaran : Is Shlok Aashay hai sone ke Patra se saty ka mukh dhanpa hai. Pooshan (sare jagat ka palan karane vale paramatman) us dhakkn ko hataiye, jisase saty ka, Arthat brahma ka ya Aap ka aur Sanatan Roop brahma par pratishthit dharm ka (Aatm-Gyanakool kartavy ka) hamako darshan ho sake. Is Shlok mein Drshtiyon ka darshan arth mein prayog Aatmasakshatkar ya brahma………..

Short Description of Bharatiya Darshan PDF Book : This verse means’ the face of truth is covered with a pot of gold. Pushan (the Supreme God who follows the whole world) remove the cover so that we can have a ‘vision’ of the reputed religion (of self-knowledgeable duty) on Brahma or the eternal form of Brahma or yours and eternal form of Brahma. In Shloka, the use of ‘visions’ in the ‘philosophy’ meaning self-realization or Brahma ……….

“सफलता के लिए एलेवेटर कार्य नहीं कर रहा है। आपको सीढ़ियों का उपयोग करना होगा। एक बार में एक कदम।” जोए गिरार्ड
“The elevator to success is out of order. You’ll have to use the stairs, one step at a time.” Joe Girard

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment